SEZ Kya hai – SEZ फुल फॉर्म, लाभ, स्थापना

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
(Last Updated On: September 16, 2022)

क्या आपने कभी कोई इंडस्ट्री की शुरुवात करने की सोची है और जब आप उसके लिए ज़मीन या फिर पूछताछ करते है तो उस प्रकिया में आपने SEZ का नाम सुना ही होगा। अगर आपको भी यह नही पता कि यह SEZ क्या होता है, इसकी फुल फॉर्म क्या होती है तो कोई बात नहीं हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से SEZ से जुड़ी सारी जानकारी प्रदान करने की कोशिश करेंगे।

SEZ क्या है?

SEZ एक ऐसा निर्धारित रीजन होता है जिससे सरकार द्वारा बनाया जाता है जिसके अंदर आप अपनी इंडस्ट्री सेट अप कर सकते हो और साथ ही साथ उन इलाकों को उस तरह डेवलप किया जाता है कि वहां पर फॉरेन या मल्टी नेशनल कंपनी आ कर भी अपना इंस्डस्ट्री सेट अप कर पाए। सरकार इन इलाकों में हर प्रकार की सुविधा प्रदान करने की कोशिश करती है जो जरूरी है किसी भी इंडस्ट्री को सेट अप करने के लिए किसी भी इलाके में। SEZ जोन किसी भी राज्य या राष्ट्र के लिए आर्थिक तौर पर मजबूत होने का एक अच्छा मौका लेकर आती है। SEZ की शुरुवात विश्व में अमेरिका
ही की गई थी वही भारत में इसकी शुरुवात 2000 में अप्रैल में हुई थी।

SEZ की फुल फॉर्म क्या है

SEZ की हिंदी में फुल फॉर्म होती है स्पेशल इकोनॉमिक जोन वही इंग्लिश में बात करे तो SEZ को Special Economic Zone कहा जाता है। यह किसी भी राज्य या राष्ट्र में ऐसा इलाका होता है जिसका मुख्य उद्देश्य होता है कि फॉरेन इन्वेस्टमेंट को अपने राज्य या अपने देश में लाना जिसका लाभ उस राज्य और उस देश को मिलता है जहां पर वो कम्पनी सेट अप होती है। SEZ सिर्फ फॉरेन कंपनियों को ही नहीं बल्कि देशी कम्पनी जिनको एक अच्छे इन्फ्रास्ट्रक्चर की जरूरत होती है उनको भी अपने तरफ अट्रैक्ट करने की कोशिश करती है।

SEZ के लाभ

SEZ के लाभ की बात कर तो SEZ के किसी भी राज्य या राष्ट्र में स्थापित होने के लाभ काफ़ी सारे है जिनमे से कुछ निम्लिखित है।

  • SEZ के स्थापित होने से निर्यात को बढ़ावा मिलेगा। जिसका सीधा सीधा असर हमारे देश के जीडीपी को मिलेगा और SEZ ke स्थापित और ठीक से चलने के बाद देश या राज्य की आर्थिक स्थिति भी सुधरेगी।
  • SEZ आपको एक ऐसा इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रदान करती है जिसके बाद आप अपना इंडस्ट्री उस रीजन में बिना किसी चीज के टेंशन के खोल सकते हो क्योंकि SEZ के देखभाल की पूरी जिम्मेदारी राज्य सरकार या केंद्र सरकार की होती है।
  • SEZ स्थापित होने से उसके आस पास के इलाके की भी वैल्यू खुद बढ़ जाती है जिसके कारण और लोग अट्रैक्ट होते है उसके नज़दीक अपना बिजनेस या इंडस्ट्री सेट अप करने में जिससे फायदा सीधे राज्य या केंद्र सरकार को होता है और वो सभी पैसा हमारे देश के रेवेन्यू को भी बढ़ाता है।

SEZ को किस तरह स्थापित करे?

SEZ को स्थापित करने से पहले काफ़ी सारी चीजों के बारे में सोचने की जरूरत है हम आर्टिकल के इस सेक्शन में उस से जुड़ी चीजों के बारे में विस्तार से बात करने की कोशिश करेंगे।

  • SEZ को आप किसी भीड़ भाड़ वाले इलाके में स्थापित नहीं कर सकते क्योंकि SEZ ko आपको ऐसे इलाके में स्थापित करना चाहिए जहां से ट्रांसपोर्टेशन आसानी से हो पाए ज्यादा समय ना लगे सामान को लाने और ले जाने में इसलिए आपने कभी गौर किया होगा तो देखा होगा SEZ मुख्य तौर पर हाईवे के आस पास बना होता है जिससे ट्रांसपोर्टेशन आसान हो पाए।
  • SEZ को किसी खुले इलाके में स्थापित करना होता है जहां पर आप हर प्रकार के इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलप कर पाए और वो इलाका भी इतना सामर्थ हो कि वहां पर हर प्रकार की सुविधा प्रदान की जा सके अन्यथा किसी भी राज्य सरकार का SEZ स्थापित करने का सपना सपना ही रह जायेगा।

FAQ

भारत में कुल कितने SEZ हैं?

वर्तमान में भारत में 379 SEZ क्षेत्र है इसमें से केवल 265 SEZ क्षेत्र ही कार्यरत हैं, और बाकी के चालु नहीं है।

सेज की स्थापना कब हुई थी?

भारत में सेज की स्थापना अप्रैल 2000 में की गई थी।

भारत का पहला विशेष आर्थिक क्षेत्र कौन सा है?

भारत का पहला विशेष आर्थिक क्षेत्र कांडला गुजरात में शुरू किया गया था।

भारत में कितने आर्थिक क्षेत्र है?

भारत में 379 आर्थिक क्षेत्र है। जो सभी कार्यरत नहीं है। इनमें से कुछ ही कार्यरत हैं।

Rajasthan me SEZ की स्थापना कब हुई?

राजस्थान में SEZ की स्थापना में कि गयी थी।

निष्कर्ष

हमने इस आर्टिकल में भारत सरकार द्वारा शुरु की गई SEZ जोन बनाने की प्रक्रिया, उससे जुड़े सभी तथ्यों और प्रोसेस के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश की है। अगर अभी भी आपके मन में SEZ से जुड़ी कोई भी आशंका है तो हमसे आर्टिकल के नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया और सहायक लगा तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तो में जरूर शेयर करे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment

Your email address will not be published.